तीन साल में, जन धन योजना ने जेएम क्रांति फैलाई, जेटली कहते हैं

रविवार को, लगभग 52.4 करोड़ आधार संख्या 73.62 करोड़ के बैंक खातों से जुड़ी हुई हैं, जेटली कहते हैं

 

 

वित्त मंत्री ने इन तीन वर्षों में उपलब्धियों को सूचीबद्ध किया है:

1. कुल पीएमजेडीय खाता खोलने की योजना जनवरी, 2015 में 12.55 करोड़ से बढ़कर 29 अगस्त, 2007 तक 29.52 करोड़ हो गई।

2. पीएमजेडीवाई के तहत खोले गए ग्रामीण खातों की संख्या जनवरी 2015 से 7.54 करोड़ से बढ़कर 17.64 करोड़ हो गई, जो कि 16 अगस्त, 2017 तक है।

3. रुपे कार्ड की संख्या जनवरी 2015 में 11.08 करोड़ से बढ़कर अगस्त 16, 2017 तक 22.71 करोड़ हो गई।

4. लाभार्थी के कुल शेष राशि में 65,844.68 करोड़ रुपये और प्रति खाता औसत शेष राशि रु। जनवरी 2015 से 837 रुपये में 16 अगस्त 2017 तक 2,231 रुपये

5. पीएमजेडीवाई के तहत शून्य शेष खाते सितंबर 2014 में 76.81 प्रतिशत से घटकर अगस्त 2017 में 21.41 प्रतिशत हो गए।

6. मार्च 2014 तक, सभी बचत खातों के लगभग 28 प्रतिशत महिलाओं ने 33.69 करोड़ खातों के साथ बनाया। मार्च 2017 तक, शीर्ष 40 बैंकों और आरआरबी के आंकड़ों के मुताबिक, महिला का हिस्सा बढ़कर लगभग 40 प्रतिशत हो गया है। इसमें पीएमजेडीवाई के तहत महिलाओं द्वारा खोले गए 14.4 9 करोड़ खातों में शामिल हैं, कुल 43.65 करोड़ महिलाओं के खातों में से यह महिलाओं के वित्तीय समावेशन में काफी तेज और तीव्र वृद्धि का प्रतिनिधित्व करता है।

 

pulkit khandelwal: